Saikhom Mirabai Chanu

Saikhom Mirabai Chanu ने रचा इतिहास, भारत को दिलाया पहला गोल्ड

Saikhom Mirabai Chanu Biography : साइखोम मीराबाई चानू भारत की बेहतरीन एक भारोत्तोलन (वेटलिफ्टर) खिलाड़ी हैं। जिन्होंने 2021 के टोक्यो ओलंपिक खेलों में 49 किलोग्राम में रजत पदक जीता और भारत के लिए वेटलिफ्टिंग में पदक जीतने वाली प्रथम महिला खिलाड़ी बनीं। वे ओलंपिक रजत पदक विजेता, विश्व चैंपियन और दो बार के राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता हैं। हालांकि इसी साल भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री से सम्मानित भी किया है। मीराबाई चानू को बचपन से ही वेट लिफ्टिंग का शौक था। आइए आज जानते हैं रागला वेंकट राहुल का जीवन परिचय (Saikhom Mirabai Chanu Biography In Hindi)

Saikhom Mirabai Chanu

साइखोम मीराबाई चानू की जीवनी | Saikhom Mirabai Chanu Biography in hindi

पूरा नामसाइखोम मीराबाई चानू
जन्म8-8-1994
जन्म स्थानमणिपुर
उम्र27 वर्ष
पेशाखिलाड़ी
खेलवेट लिफ्टिंग
गोल्ड मेडल2
सिल्वर1
पितासाइकोहं कृति मैतेई
मातासाइकोहं ऊँगबी तोम्बी लीमा
नागरिकताभारतीय
धर्महिंदू

मीराबाई चानू कौन है? Saikhom Mirabai Chanu

मीराबाई चानू भारत ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग के खेल में सबसे पहला मेडल जीतकर इतिहास रचा था। उन्होंने मात्र 8 किलो वजन के कारण सिल्वर मेडल हासिल की। मीराबाई चानू ने ओलंपिक खेल में रजत पदक प्राप्त करके पूरे विश्व में भारत का नाम रौशन किया।

व्यक्तिगत जीवन

साइखोम मीराबाई चानू (Saikhom Mirabai Chanu) का जन्म 8 अगस्त 1994 को भारत के एक उत्तर पूर्वी राज्य मणिपुर की राजधानी इम्फाल में हुई थी। इनके पिता का नाम साइकोहं कृति मैतेई है जो PWD डिपार्टमेंट में नौकरी करते हैं। वहीं माता का नाम साइकोहं ऊँगबी तोम्बी लीमा है जो पेशे से एक दुकानदार हैं।

Also Read- Ragala Venkat Rahul Biography : कौन हैं रागला वेंकट राहुल? CWG 2022 में जिनपर हैं सभी की निगाहें

शिक्षा

मीराबाई चानू की शिक्षा (Saikhom Mirabai Chanu) के विषय में अभी तक कोई भी जानकारी नहीं मिल पाई है। ऐसा कहा जाता है कि मीराबाई चानू ने स्नातक किया है, हालांकि इसमें कितनी सच्चाई, इसके विषय में कहना मुश्किल है।

करियर

टोक्यो 2020 के दौरान पहला रजत पदक और दूसरा ओलंपिक पदक था। इसके बाद वह ओलंपिक रजत पदक जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला भी बनीं। लेकिन वह अपने किसी भी क्लीन-एंड-जर्क लिफ्ट को पूरा करने में नाकाम रहीं।

इस असफलता ने मीराबाई चानू टूट गईं और उन्होंने जल्द ही रिटायर लेने का फैसला कर लिया। लेकिन टोक्यो ओलंपिक में चानू ने ठान ली और कई बलिदानों के बाद रजत पदक अपने नाम किया, जो उनकी अथक मेहनत का फल था। साईखोम मीराबाई चानू का सफर (Saikhom Mirabai Chanu) बेहद शानदार रहा है।

पुरस्कार

  • साल 2014 में  15 गोल्ड मेडल 30 सिल्वर मेडल और 19 कस्य पदक जीते।
  • ग्लासगो कॉमनवेल्थ में 48 किलोग्राम की कैटेगरी में सिल्वर मेडल जीता।
  • साल 2016 के दौरान 12वीं साउथ एशियन गेम्स गुवाहाटी में गोल्डन मेडल हैसिल की।
  • वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप 2017 में 48 किलोग्राम की कैटेगरी में गोल्ड मेडल अपने नाम कीं।
  • कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में 48 किलोग्राम की कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीतीं।
  • टोक्यो ओलंपिक खेल 2021 में 50 किलोग्राम की कैटेगरी में सिल्वर मेडल प्राप्त कीं।
  • वेटलिफ्टिंग अंतर्राष्ट्रीय 2022 में 55 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता है।
  • साइखोम मीराबाई चानू ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारत को पहला गोल्ड दिलाया है। उन्होंने वेट लिफ्टिंग इवेंट के 49 किलो भारवर्ग में गोल्ड मेडल जीता है।

सम्मान

खेलों में बेहतर प्रदर्शन के चलते मणिपुर के मुख्यमंत्री ने खुश होकर इन्हें 20 लाख की राशि भेंट की थी।

FAQ’S

मीराबाई चानू कहां की रहने वाली हैं?

मणिपुर

मीराबाई चानू का पूरा नाम क्या है?

साइखोम मीराबाई चानू

मीराबाई चानू किस खेल से संबंधित है?

वेट लिफ्टिंग

ओलंपिक में मीराबाई चानू ने कौन सा पदक जीता?

टोक्यो ओलंपिक 2020 में वेटलिफ्टर मीराबाई चनू ने सिल्वर मेडल जीता।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

भारतीय सेना अग्निवीर भर्ती 2022 के रजिस्ट्रेशन शुरू, ऐसे करें आवेदन कलौंजी इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, ऐसे करें उपयोग इन बिमारियों से दूर रखता है अखरोट, आज से ही खाना करें शुरू
भारतीय सेना अग्निवीर भर्ती 2022 के रजिस्ट्रेशन शुरू, ऐसे करें आवेदन कलौंजी इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, ऐसे करें उपयोग इन बिमारियों से दूर रखता है अखरोट, आज से ही खाना करें शुरू