EntertainmentNationalProfile

Shailesh Lodha Biography in Hindi | शैलेश लोढ़ा का जीवन परिचय

शैलेश लोढ़ा (Shailesh Lodha) इस नाम से शायद ही आज कोई शख्‍स परिचित न हो। दरअसल ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ सीरियल में ‘तारक मेहता’ का किरदार निभाने वाले शैलेश लोढ़ा को आज बच्‍चा हो या कोई बड़ा, सभी पहचानते हैं। बता दें कि शैलेश लोढ़ा ने हाल ही में तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा शो छोड़ दिया है। इसके बाद से वह नए शो ‘वाह भाई वाह’ में नजर आ रहे हैं।

Shailesh Lodha Biography in Hindi

टीवी एक्‍टर के साथ-साथ शैलेश लोढ़ा एक हास्य कवि (Poet) भी हैं, वहीं इसके साथ ही वह एक प्रख्‍यात लेखक (Writer) भी हैं। तारक मेहता का उल्टा चश्मा से लोगों के दिलों में जगह बनाने वाले शैलेश लोढ़ा को दुनिया उनके किरदार ‘तारक मेहता’ के नाम से ज्‍यादा जानती है। आइए जानते हैं शैलेश लोढ़ा का जीवन परिचय (Shailesh Lodha Biography in Hindi)

शैलेश लोढ़ा की संक्षिप्‍त जीवनी – Shailesh Lodha Biography in Hindi

पूरा नामशैलेश लोढ़ा
जन्‍मतिथि08 नवंबर 1969
आयु52 साल
जन्‍मस्‍थानजोधपुर, राजस्‍थान
शैक्षिक योग्‍यतास्नातक
पेशाकवि, लेखक, एक्टर
पिता का नामश्‍याम सिंह लोढ़ा
मां का नामशोभा लोढ़ा
पत्‍नी का नामस्‍वाति लोढ़ा
संतानस्‍वरा लोढ़ा
प्रसिद्धितारक मेहता किरदार से (Tarak Mehta Ka Ulta Chasma)
पुरस्‍कारराष्‍ट्रीय सृजन पुरस्‍कार (2017),
भारत गौरव पुरस्‍कार,
राजस्‍थान गौरव पुरस्‍कार, आदि
कुल संपत्तिकरीब 3 करोड़ रुपए

जन्‍म व माता-पिता

शैलेश लोढ़ा का जन्‍म राजस्थान के जोधपुर में 8 नवम्बर 1969 को हुआ था। शैलेश लोढ़ा के पिता का नाम (Shailesh Lodha Father Name) श्याम सिंह लोढ़ा है। वहीं उनकी माता का नाम शोभा लोढ़ा (Shailesh Lodha Mother Name) है।

प्रारंभिक जीवन

शैलेश लोढ़ा का प्रारम्भिक जीवन जोधपुर में ही बीता, लेकिन इनके पिता की नौकरी की वजह से बार-बार स्थानांतरण के कारण इन्हें भी बाहर जाना पड़ता था। इस कारण इन्होंने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपनी माता जी से ही प्राप्त की। माता जी की हिंदी भाषा में अधिक रूचि थी, जिसके प्रेरणास्वरूप इन्हें भी हिंदी भाषा में रूचि आ गई। इन्होंने बचपन से ही हिंदी भाषा में कविताएं लिखनी (Shailesh Lodha Peoms Writing) शुरू कर दी थीं। इस कारण से इन्हें ‘बाल कवि’ की उपाधि भी मिली।

शिक्षा एवं व्यवसाय

शैलेश लोढ़ा ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपनी माता जी से ही प्राप्त की। इसके बाद जोधपुर से अपनी स्कूली शिक्षा हासिल करने के बाद इन्होंने जोधपुर से ही स्नातक (B.Sc.) की डिग्री हासिल की। इसके बाद इन्‍होंने मार्केटिंग में परास्‍नातक की उपाधि हासिल की। पढ़ाई के साथ-साथ वह कविताएं लिखा करते थे।

शैलेश लोढ़ा ने पढ़ाई के बाद जोधपुर में ही नौकरी कर ली, लेकिन कहते हैं न कि जिसको लिखने का और कविताओं का शौक हो गया वह ज्यादा दिन तक नौकरी नहीं कर सकता, तो शैलेश लोढ़ा ने भी अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने हिंदी ज्ञान से और कविताओं में इंट्रेस्ट की वजह से उन्होंने लिखना और कवि सम्मेलनों में भाग लेना शुरू कर दिया। कवि सम्मेलनों को करते हुए उन्हें एक्टिंग में भी रूचि आ गई, जिस वजह से उन्होंने एक्टिंग सीखनी भी प्रारम्भ कर दी। 

Also Read : Brahmastra ही नहीं ये हैं पौराणिक काल के सबसे घातक हथियार

विवाह एवं परिवार

कवि के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने के बाद उनकी मुलाकात स्वाति लोढ़ा से हुई, जो खुद भी एक लेखिका थीं और सामाजिक कार्यों में अपनी रूचि रखती थीं। इसके बाद शैलेश लोढ़ा ने स्वाति लोढ़ा से शादी कर ली। इन दोनों की एक बेटी है जिसका नाम स्वरा लोढ़ा है। शैलेश लोढ़ा और उनका परिवार पत्नी एवं बेटी सभी लेखन कार्य से जुड़े हुए हैं। 

तारक मेहता का उल्टा चश्मा में तारक मेहता बनने का सफर

शैलेश लोढ़ा जब टीवी शो ‘वाह-वाह क्या बात है’ में काम कर रहे थे, उस समय उनकी मुलाकात तारक मेहता का उल्टा चश्‍मा के प्रोड्यूसर असित मोदी से हुई और उन्हें शैलेश लोढ़ा का हास्य स्वभाव इतना पसंद आया कि उन्होंने इन्हें तारक मेहता का रोल ऑफर कर दिया। साल 2008 से चले आ रहे तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो में तारक मेहता के रूप में इन्हें नई पहचान मिली। शैलेश लोढ़ा ने तारक मेहता के रूप में लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाई।

समय बीतने के साथ ही यह शो लोगों के बीच इतना फेमस हुआ कि भारत से लेकर दुनिया भर में तमाम लोगों ने शो में उनकी तारीफ की। साल 2008 से लेकर साल 2022 तक वह इस शो का हिस्‍सा रहे। हाल ही में शैलेश लोढ़ा ने तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा शो छोड़ दिया है। अब वह अपने नए शो ‘वाह भाई वाह’ में नजर आ रहे हैं।

कवि और लेखक के रूप में उनका जीवन

शैलेश लोढ़ा एक्टर होने से पहले एक लेखक और कवि हैं। उन्होंने बचपन से ही कविताओं को लिखना शुरू कर दिया था। वह जब सिर्फ 9 साल के थे, तब उन्होंने ने लोगों के बीच अपनी कविताओं को पढ़ा, उस दौरान उन्हें ‘बाल कवि’ की उपाधि से नवाजा गया। शैलेश लोढ़ा समय- समय पर कवि सम्मेलनों में भी भाग लेते रहते हैं। कविता और कवि सम्मेलन के प्रेमियों के बीच वह काफी फेमस हैं।

बड़े-बड़े कवि सम्मेलनों में भाग लेकर हास्य-व्यंग्य एवं देश प्रेम सहित, युवाओं को प्रेरणा देने वाली कविताओं से उन्होंने लोगों के बीच अपनी अलग जगह बनाई। देश के साथ-साथ वह विदेशों में भी होने वाले कवि सम्मेलनों में भाग लेते आए हैं। शैलेश लोढ़ा ने चार पुस्तकें भी लिखी हैं, जिनमें से एक पुस्तक (Shailesh Lodha Book) ‘दिल जले का फेसबुक स्टेटस’ लोगों के बीच काफी प्रचलित है।

पुरस्कार और उपलब्धियां – Shailesh Lodha Awards

शैलेश लोढ़ा को समय-समय पर उनके कार्यों के लिए पुरस्कृत भी किया गया है। उनके पुरस्कारों में मुख्य रूप से भारत गौरव अवार्ड, राजस्थान गौरव अवार्ड, राष्ट्रीय सृजन अवार्ड, जी गोल्ड अवार्ड फॉर बेस्ट एंकर 2014 आदि शामिल हैं। 

कुल सम्पत्ति – Shailesh Lodha Net Worth

शैलेश लोढ़ा मुंबई (Mumbai) में रहते हैं। तारक मेहता का उल्टा चश्मा में उनकी फीस 1 लाख रूपये पर एपिशोड है। उनकी कुल सम्पत्ति लगभग 3 करोड़ रुपए है। इसके साथ उन्हें लग्ज़री और ब्रांडेड कारों का भी काफी शौक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button