Yogi Adityanath

अजय सिंह बिष्ट कैसे बने योगी आदित्यनाथ? यहां जानिए पूरी कहानी

योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) एक भारतीय राजनेता और वर्तमान समय में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री हैं। साल 2017 में भारतीय जनता पार्टी को उत्‍तर प्रदेश में मिली प्रचंड जीत के बाद योगी आदित्‍यनाथ को यूपी का 21वां मुख्‍यमंत्री चुना गया था। उन्‍होंने उत्‍तर प्रदेश के 21वें मुख्‍यमंत्री के रूप में 19 मार्च 2017 के दिन शपथ ग्रहण की थी।

वहीं इसके बाद साल 2022 में एक बार फिर उत्‍तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी सरकार बनाई। इसके बाद योगी को लगातार दूसरी बार मुख्‍यमंत्री के रूप में चुना गया। बता दें कि योगी आदित्‍यनाथ उत्‍तर प्रदेश के इतिहास में लगातार दूसरी बार सीएम बनने वाले पहले व्‍यक्ति हैं। आइए आज जानते हैं योगी आदित्‍यनाथ का जीवन परिचय (Yogi Adityanath Biography in Hindi)…

Yogi Adityanath

योगी आदित्‍यनाथ की संक्षिप्‍त जीवनी – Yogi Adityanath Biography in Hindi

पूरा नामयोगी आदित्‍यनाथ
वास्‍तविक नामअजय सिंह बिष्‍ट
जन्‍मतिथि05 जून 1972
जन्‍मस्‍थानपौड़ी गढ़वाल, उत्‍तराखंड
पिता का नामआनंद सिंह बिष्‍ट
मां का नामसावित्री देवी
भाई-बहनतीन भाई, तीन बहनें
वैवाहिक स्थितिअविवाहित
गुरू का नाममहंत अवैद्यनाथ
धर्महिंदू
सामाजिक जीवन से संन्‍याससाल 1994 में
राजनीतिक पार्टीभारतीय जनता पार्टी
वर्तमान में पदउत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री
शैक्षिक योग्‍यतास्‍नातक
कुल संपत्ति1.54 करोड़ रुपए (2022 में)

जन्‍म व माता-पिता

योगी आदित्‍यनाथ का जन्‍म 5 जून 1972 को उत्‍तराखंड (तब उत्‍तर प्रदेश) के पौड़ी गढ़वाल स्थित यमकेश्वर तहसील के पंचूर गांव के एक राजपूत परिवार में हुआ था। योगी के पिता आनंद सिंह बिष्‍ट एक फॉरेस्‍ट रेंजर थे। वहीं उनकी मां सावित्री देवी एक कुशल गृहिणी थीं। योगी अपने माता-पिता की 7 संतानों में से पांचवें नंबर की संतान हैं। उनके तीन बड़ी बहनें, एक बड़ा भाई और दो उनसे छोटे भाई हैं।

वास्‍तविक नाम

योगी आदित्‍यनाथ के माता-पिता ने जन्‍म के समय उनका नाम अजय‍ सिंह बिष्‍ट रखा था। अपने जन्‍म से साल 1994 तक वह अजय सिंह बिष्‍ट के नाम से ही जाने जाते थे। साल 1994 में अजय सिंह बिष्‍ट ने संन्‍यासी जीवन की दीक्षा ग्रहण कर ली और उनके गुरू महंत अवैद्यनाथ ने उन्‍हें योगी आदित्‍यनाथ नाम दिया।

शिक्षा

योगी आदित्‍यनाथ ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा टिहरी के गजा स्थित स्‍कूल से पूरी की। उन्‍होंने साल 1987 में यहां से हाईस्‍कूल की परीक्षा उत्‍तीर्ण की। इसके बाद साल 1989 में उन्‍होंने ऋषिकेश के श्री भरत मंदिर इंटर कॉलेज से इंटरमीडियट की परीक्षा पास की। वहीं इसके बाद साल 1992 में उन्‍होंने श्रीनगर स्थित हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल यूनिवर्सिटी से गणित विषय में बीएससी की डिग्री हासिल की।

स्‍नातक की पढ़ाई के दौरान ही वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ गए थे। वहीं इसके बाद उन्‍होंने गणित विषय से एमएससी में एडमिशन लिया। एमएससी की पढ़ाई के दौरान साल 1993 में वह गुरू गोरखनाथ पर रिसर्च के लिए गोरखपुर आए। यहीं पर वह गोरक्षनाथ पीठ के महंत अवैद्यनाथ की नजर में आए और उनके संन्‍यासी जीवन की शुरूआत हुई।

गोरखनाथ मंदिर के महंत

साल 1993 में गोरक्षनाथ पीठ के महंत अवैद्यनाथ की शरण में आने के बाद अजय सिंह बिष्‍ट ने संन्‍यासी जीवन की दीक्षा ले ली। वहीं साल 1994 में वह पूरी तरह से संन्‍यासी बन गए। इसके बाद महंत अवैद्यनाथ ने इनका नाम अजय सिंह बिष्‍ट से बदलकर योगी आदित्‍यनाथ रख दिया। दो सितंबर 2014 को गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महंत अवैद्यनाथ का निधन हो गया। इसके बाद योगी आदित्‍याथ को गोरखनाथ मंदिर का महंत बनाया गया। वहीं इसके दो दिनों के बाद नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्‍ठान के अनुसार उन्‍हें मंदिर का पीठाधीश्‍वर बनाया गया।

Also Read : कौन हैं अधीर रंजन चौधरी? जिन्‍होंने राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर की विवादित टिप्‍पणी

राजनीतिक जीवन

26 वर्ष की उम्र में बने सबसे युवा सांसद

वैसे तो योगी आदित्‍यनाथ ने अपनी स्‍नातक की पढ़ाई के दौरान ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल होकर छात्र राजनीति की शुरूआत कर दी थी। लेकिन उनके असली राजनीतिक जीवन की शुरूआत साल 1998 में हुई, जब उन्‍होंने पहली बार में ही गोरखपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीता। 1998-99 के दौरान वे बारहवीं लोकसभा के सबसे युवा सदस्‍य भी बने। उस समय उनकी आयु महज 26 वर्ष की थी। वहीं इसके बाद साल 1999 में फिर से हुए लोकसभा चुनाव में उन्‍होंने जीत हासिल की।

2017 में यूपी के 21वें सीएम बने योगी

साल 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने पूर्ण बहुमत हासिल किया और यूपी में अपनी सरकार बनाई। इस दौरान बीजेपी ने योगी आदित्‍यनाथ को उत्‍तर प्रदेश का 21वां मुख्‍यमंत्री बनाया। 19 मार्च 2017 के दिन उनका शपथ ग्रहण समारोह बेहद भव्‍य तरीके से मनाया गया। इसमें यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव भी शामिल हुए थे।

2022 में फिर बने सीएम

देश को आजादी मिलने बाद से अब तक यूपी के इतिहास में कोई भी मुख्‍यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा कर दोबारा सीएम नहीं बन पाया, लेकिन योगी ने इस बात को बदलकर रख दिया। वह साल 2022 में अपना पहला कार्यकाल पूरा कर दोबारा यूपी के सीएम बने। वहीं लगातार दूसरी बार यूपी में किसी पार्टी की सरकार 37 सालों के बाद बनी।

गोरखपुर शहर से विधायक भी हैं सीएम योगी

उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में योगी आदित्‍यनाथ ने गोरखपुर शहर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। इस चुनाव में उन्‍हें एक लाख से भी ज्‍यादा वोटों के अंतर से जीत हासिल हुई।

FAQ’s

योगी आदित्‍यनाथ के कितने भाई-बहन हैं?

योगी आदित्‍यनाथ अपने माता-पिता की सात संतानों में से पांचवीं संतान हैं। उनके तीन बड़ी बहनें, एक बड़ा भाई और दो छोटे भाई हैं।

योगी आदित्‍यनाथ का वास्‍तविक नाम क्‍या है?

योगी आदित्‍यनाथ का वास्‍तविक नाम अजय सिंह बिष्‍ट है।

अ‍जय सिंह बिष्‍ट कैसे बने योगी आदित्‍यनाथ?

साल 1994 में संन्‍यासी जीवन की दीक्षा लेने के बाद अजय सिंह बिष्ट को महंत अवैद्यनाथ ने योगी आदित्‍यनाथ नाम दिया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

भारतीय सेना अग्निवीर भर्ती 2022 के रजिस्ट्रेशन शुरू, ऐसे करें आवेदन कलौंजी इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, ऐसे करें उपयोग इन बिमारियों से दूर रखता है अखरोट, आज से ही खाना करें शुरू
भारतीय सेना अग्निवीर भर्ती 2022 के रजिस्ट्रेशन शुरू, ऐसे करें आवेदन कलौंजी इन बिमारियों का है रामबाण इलाज, ऐसे करें उपयोग इन बिमारियों से दूर रखता है अखरोट, आज से ही खाना करें शुरू